Ration Card धारकों को मोदी सरकार की ओर से मिला बड़ा झटका, अब 70 लाख राशन कार्ड कर दिए जाएंगे कैंसिल

Ration Card Cancellation: अगर आपके पास भी राशन कार्ड (Ration Card) है और सरकारी राशन की दुकान पर से आप भी सस्ता राशन लेकर आते हैं तो यह खबर आपके लिए बहुत ही ज्यादा जरूरी हो सकती है। केंद्र सरकार यानी कि मोदी सरकार की ओर से यह बड़ा कदम उठाया जा रहा है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि सरकार ने नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट (NFSA) के अनुसार फायदा प्राप्त करवाने के लिए 70 लाख कार्ड धारकों को संदिग्ध (suspect) के अंदर शामिल कर दिया है। सरकार की ओर से इस डाटा को ग्राउंड वेरिफिकेशन के लिए राज्यों के साथ में भेज दिया गया है।

संदिग्धों की सूची में आए 70 लाख Ration Card धारक

जानकारी के लिए आपको बता दें कि ग्राउंड वेरिफिकेशन से यह जानकारी प्राप्त हो जाएगी कि जो भी नामों को संदिग्ध की सूची में शामिल कर दिया गया है वह NFSA के अनुसार राशन प्राप्त करने के लिए पात्र है भी या नहीं। इसी के साथ में फूड सेक्रेट्री सुधांशु पांडे ने गहरी बता दिया है कि इस तरह साल 2013 से 2021 के बीच में 4.74 करोड़ राशन कार्ड को रद्द कर दिया गया है। इस बार भी सरकार ने 7000000 राशन कार्ड धारकों को संदिग्ध की सूची के अंदर शामिल कर दिया है। इस डाटा के अंदर शामिल नामों की सही जानकारी भी सरकार जुटाने में लगी हुई है।

नए पात्र लोगों को दिया जाने वाला है मौका

पांडे बताते हैं कि अगर 70 लाख लोगों में से 50% भी नियमानुसार सही नहीं मिलते हैं तो उनकी जगह पर कैंसिल करने के बाद में नए पात्रों को इस पर मौका दिया जाने वाला है। यह हर साल चलने वाली प्रक्रिया होती है। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार की ओर से पिछले 9 साल के अंदर इस प्रक्रिया के अनुसार 4. 74 करोड़ राशन कार्ड को रद्द कर दिया जा चुका है। जिससे कि कुल 19 करोड़ लोग लाभान्वित हो चुके हैं। राशन कार्ड रद्द होने के बाद में उनकी जगह पर नए पात्रों के नाम जोड़ दिए जाते हैं।

ऐसा इसीलिए क्योंकि यह प्रक्रिया सरकार की ओर से हर साल लागू कर दी जाती है। सुधांशु पांडे बताते हैं कि यह भी हो सकता है कि आज कोई भी व्यक्ति राशन कार्ड योजना के लिए पात्र हो लेकिन कुछ समय के बाद में वह इसके लिए पात्र नहीं रहता है। इसीलिए उसका नाम सूची से हटाकर उसकी जगह पर दूसरे को यह मौका दे दिया जाएगा।

फूड मिनिस्ट्री की ओर से जारी आंकड़ों की मानें तो पिछले 9 साल के अंदर 4.74 करोड़ राशन कार्ड रद्द कर दिए जा चुके हैं। साल 2016 के अंदर सबसे ज्यादा 84 नाक राशन कार्ड को रद्द कर दिया गया था। कोविड-19 के समय पर 2020 और 2021 के अंदर 46 लाख राशन कार्ड को रद्द कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें-Punjab National Bank ने किसानों के लिए जारी की नई स्कीम, मिल सकेगा 2 लाख रुपए तक का लोन

Sacredrun Home Click Here

Leave a Comment